Breaking

Search This Blog

Friday, May 25, 2018

ऐसी जगह जहां घडी की सुइयां घूमती है उल्टी दिशा मैं

         भारत में ऐसी   जगह जहां घडी की सुइयां उल्टी दिशा मैं घूमती है

  1. भारत विविधताओं का देश है और कहीं न कहीं यह बात सही भी ठहरती है। भारत के लोग सहनशीलता और सुंदरता के आलावा अपनी सभ्यताओं से भी लोगों को ररूबरू कराते हैं। हम ऐसे देश के निवासी हैं। जहाँ लोग अपनी अपनी मान्यताओं में यकीन रखते हैं। आज हम ऐसे ही विषय पर चर्चा करने वाले हैं। भारत के राज्य छत्तीसगड़ में कुछ आदिवासी लोग रहते हैं। उन लोगों का यह मानना है ,उनकी घडी स्वाभाविक है और वह प्रकृति के नियमानुसार चलती हे। 

छत्तीसगढ़ मैं एक आदिवासी इलाका है जहां घड़ियां उलटी दिशा  मैं चलती हैं यानी दायीं ओर से बायीं ओर। 
छत्तीसगढ़ मैं कोरबा के पास आदिवासी शक्तिपीठ से जुड़े एक स्थान पर गोंड आदिवासिओं की घडी उलटी यानी दायीं से बायीं ओर चलती है तभी से  यहाँ के लोग एंटी क्लॉकवाइज़ घडियो का प्रयोग करते हैं। गोंड आदिवासियों का कहना है की उनकी घडी स्वाभाविक है जो प्रक्रति के नियमानुसार चलती है। उन्होंने अपने समय को "गोंडवाना टाइम" नाम दिया है।इस विपरीत दिशा वाली घडी के पीछे तर्क है  की पृथ्वी भी दाईं से बायीं ओर घूमती है। सूर्य ,चन्द्रमा ,तारे भी इसी दिशा मैं अंतरिक्ष मैं यात्रा करते हैं। यहां तक की नदी तालाब मैं पड़ने वाले भवर व पेड़ के तने से लिपटी बेल सभी की दिशा यही है। करीब दस हजार परिवार  घडी का प्रयोग करते हैं।

Like Us On Facebook=https://www.facebook.com/facttalk1/ 
Post a Comment