Breaking

Search This Blog

Wednesday, May 30, 2018

Save Water

 Save Water???


जल ही जीवन है, कहावत तो सुनी ही होगी  बड़े ही दुःख की बात है की अब जीवन खतरे मैं है। दिन प्रति दिन जल स्तर घटता जा रहा है और लोग अपनी अपनी समस्याओं को सुलझाने मैं लगे हैं लेकिन इस समस्या की और किसी का ध्यान नहीं जाता। नेताओं के वारे मैं तो सोचना ही वेवकूफी होगी , उन्हें तो बस चुनाव के समय सारी समस्याएं नज़र आती हैं ,तो कौन सोचेगा इस समस्या के वारे मैं ?अब किसी को तो सोचना पड़ेगा। 

जल से सम्बंधित कुछ आंकड़े 

1- पिछले 50 वर्षों मैं पानी के लिए 37 भीषण हत्या कांड हुए हैं ,जो सोचने पर विवश करता   है। 

2 -भारतीय नारीयां  पीने के पानी के लिए  हर रोज औसतन चार मील पैदल चलती हैं। 

3- पानीजन्य रोगों से पूरी दुनिया मैं हर साल 22 लाख लोगों की मृत्यु हो जाती है। 

4 -हमारी पृथ्वी पर एक अरब 40 घन किलो लीटर पानी है ,इसमें 97.5  प्रतिश  पानी समुद्र मैं है जो खारा है ,   1. 5   प्रतिशत पानी बर्फ के रूप मैं ध्रुब प्रदेशों मैं है। इसमें से बचा एक प्रतिशत पानी नदी,सरोवर ,कुआँ ,झरनो और झीलों मैं है जो पिने के लायक हैं। इस एक प्रतिशत पानी का 60 वां हिस्सा खेती और उद्योग कारखानों मैं खपत होता हैं। बाकी का चालीसवां हिस्सा हम पिने ,भोजन बनाने ,नहाने ,कपडे धोने एवं साफ सफाई मैं खर्च करते हैं। 

5 -यदि ब्रश करते समय नल खुला रह गया है ,तो पांच मिनट मैं करीब 25 से 30 लीटर पानी बर्वाद होता है। 

6-बाथ तब मैं नहाते समय 300 से 500 लीटर पानी खर्च होता है जबकी सामान्य रूप से नहाने मैं 100 से 150 लीटर पानी खर्च होता है। 

7 -दुनिया मैं प्रति 10 व्यक्तियों मैं से 2 व्यक्तियों को पीने का शुद्ध पानी नहीं मिल पाता। 

8 -प्रति वर्ष 6 अरब लीटर बोतल पैक पानी मनुष्य द्वारा पिने के लिए प्रयुक्त किया जाता है। 

9 -नदियां पानी का सबसे बड़ा स्रोत हैं। जहां एक ओर नदियों मैं बढ़ते प्रदूषण रोकने के लीये विशेस्यज्ञ उपाय खोज रहे हैं वहीँ  कल कारखानों से वहते हुए रसायन उन्हें भारी मात्रा मैं प्रदूषित कर रहे हैं.ऐसी अवस्था मैं जब तक क़ानून मैं शक्ति नहीं बरती जाती ,अधिक से अधिक लोगों का दूषित पानी पीने का समय आ   सकता है। 

10  -पृथ्वी   पर पैदा होने वाली सभी बनस्पतियों हमें पानी मिलता है। 

11 -आलू  मैं और अनन्नास मैं 80 प्रतिशत तथा  टमाटर मैं 95 प्रतिशत पानी होता है। 

12 - पानी के पानी के लिए प्रति दिन मनुस्य को 3 लीटर तथा पशुओं  को 50 लीटर  पानी चाहिए। 

13 -एक लीटर गाए का दूध प्राप्त करने के लिए 800 लीटर  पानी   खर्च करना पड़ता है ,एक किलो गेहूं उगाने के लिए 1 हज़ार लीटर और एक किलो चावल उगाने के लिए चार हजार लीटर पानी की आवश्यकता होती है। इस प्रकार भारत मैं 83 प्रतिशत पानी खेती और सिचाई के लिए प्रयोग किया जाता है। 



पानी बचायें जीवन बचायें  

समय आ गया है की हम बर्षा का जल अधिक से अधिक बचाने की कोशिश करें। बारिश की एक एक बूँद कीमती है। इन्हे सहेजना बहुत ही आवश्यक है। यदि अभी पानी नहीं सहेजा गया तो संभव है की पानी केवल हमारी आँखों मैं ही बच पायेगा, शायद वहां भी न बचे। पहले कहा जाता था हमारा देश वह देश है जिसकी गोद  मैं हज़ारों नदियाँ खेलती थीं। अब सैकड़ो ही बची हैं। कहाँ  गयी वे नदियां कोई नहीं बता सकता। 

save water for future
save the water


अगर आप पानी नहीं बचा रहे हैं तो आप अपने बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं ?????????????????????????????



ऐसी ही पोस्ट रोजाना पड़ने के लिए हमारे पेज को सब्सक्राइब करें और फेसबुक पेज को लाइक  करें। 

                                             जय हिन्द                                                                                  


Post a Comment