Breaking

Search This Blog

Friday, July 20, 2018

योग के महारथी : Master of Yoga In Hindi

yoga-yoga-master-yoga-basics-best-yoga-yoga-meditation-how-to-yoga-foundations-of-yoga-ashtang-kundalini-yoga-yoga-moves-fightmaster-yoga-yoga-for-beginners-master-yang-mantra-,hatha yoga,posture de yoga,expert yoga,ket yoga,tap yoga,sky yoga,zen yoga,master kamal,meditation,slow yoga flow,beginner yoga,exercice yoga,intermediate yoga,advanced yoga,raja yoga


योग के महारथी :Master of Yoga

भारत के ऋषि मुनियों द्वारा जन्मे योग का डंका आज पुरे विश्व में बज रहा है। दुनिया के हर हिस्से में लोग योग को अपना कर अपने तन  व मन को तंदरुस्त बनाने में लगे हुए हैं। योग एक वह क्रिया है जिससे मनुष्य का शरीर रोग विकारों से बचा रहता। यह बात हम सभी जानते हैं की योग का जन्म भारत में ऋषि मुनियों द्वारा किया गया। शायद हम उन ऋषियों के वारे में नहीं जानते होंगे जिन्होंने योग का निर्माण किया।,तथा जिन्हे योग में महारथ हासिल थी। आज हम इसी विषय पर चर्चा करेंगे। 

पतंजलि :Patanjali

yoga-yoga-master-yoga-basics-best-yoga-yoga-meditation-how-to-yoga-foundations-of-yoga-ashtang-kundalini-yoga-yoga-moves-fightmaster-yoga-yoga-for-beginners-master-yang-mantra-,hatha yoga,posture de yoga,expert yoga,ket yoga,tap yoga,sky yoga,zen yoga,master kamal,meditation,slow yoga flow,beginner yoga,exercice yoga,intermediate yoga,advanced yoga,raja yoga

पतंजलि ऋषि योग सूत्र के रचनाकार हैं ,जो हिन्दुओं के 6 दर्शनों (न्याय ,वैशेषिक ,सांख्य ,योग ,मींमासा ,वेदांत) में से एक है। भारतीय साहित्य में पतंजलि के लिखे हुए तीन मुख्य ग्रन्थ मिलते हैं -योग सूत्र ,अष्टाध्यामि  पर भाष्य और आयुर्वेद पर ग्रन्थ। पतंजलि ने पाणिनि के अष्टाध्यी पर अपनी टीका लिखी जिसे महाभाष्य का नाम दिया। इनका काल 200 ई.पू. गोनार्ध (गोण्डा उत्तर प्रदेश ) में हुआ था पर ये काशी में नागकूप पर बस गए थे। 

तिरुमलाई कृष्णमाचार्य ; Tirumalai krishnamacharya

yoga-yoga-master-yoga-basics-best-yoga-yoga-meditation-how-to-yoga-foundations-of-yoga-ashtang-kundalini-yoga-yoga-moves-fightmaster-yoga-yoga-for-beginners-master-yang-mantra-,hatha yoga,posture de yoga,expert yoga,ket yoga,tap yoga,sky yoga,zen yoga,master kamal,meditation,slow yoga flow,beginner yoga,exercice yoga,intermediate yoga,advanced yoga,raja yoga

आधुनिक युग में लोगों को मुख्य धारा में लाने में तिरुमलाई कृष्णमाचार्य नामं आता है। इनका जन्म 18 नबम्बर 1818 में हुआ था। इन्हें आधुनिक योग के पिता के रूप में जाना जाता है। तिरुमलाई कृष्णाचार्य सभी छ: वेदों के जानकार थे। भारत में उन्हें मुख्य रूप से एक चिकित्सक के रूप में जाना जाता है। ,जो इलाज के आयुर्वेदिक पद्धति सहित स्वास्थ और कल्याण बहाल करने के लिए योग परम्पराओं के पोषक रहे हैं। 

के. पट्टाभी जोइस : K. pattabhi jois

yoga-yoga-master-yoga-basics-best-yoga-yoga-meditation-how-to-yoga-foundations-of-yoga-ashtang-kundalini-yoga-yoga-moves-fightmaster-yoga-yoga-for-beginners-master-yang-mantra-,hatha yoga,posture de yoga,expert yoga,ket yoga,tap yoga,sky yoga,zen yoga,master kamal,meditation,slow yoga flow,beginner yoga,exercice yoga,intermediate yoga,advanced yoga,raja yoga

भारतीय योग शिक्षक और संस्कृत के विद्वान् रहे थे जिन्होंने योग की विनिशा शैली को लोकप्रिय बनाया, जिसे अष्टांग योग कहा जाता है। जोइस ने भारत के मैसूर में अष्टांग योग अनुशंधान संस्था की स्थापना की। जोई उन भारतीयों में से एक हैं , जिन्होंने 20 वीं शताब्दी में भारत से पश्चिम तक योग प्रसारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। जोइस के पिता एक ज्योतिषी थे। उन्होंने 1958 में कन्नड़ में 'योग माला ' पुस्तक लिखी ,जिसे 1962 में प्रकाशित किया गया था। 

बी. के. एस. अयंगार : B.K.S. Iyengar

yoga-yoga-master-yoga-basics-best-yoga-yoga-meditation-how-to-yoga-foundations-of-yoga-ashtang-kundalini-yoga-yoga-moves-fightmaster-yoga-yoga-for-beginners-master-yang-mantra-,hatha yoga,posture de yoga,expert yoga,ket yoga,tap yoga,sky yoga,zen yoga,master kamal,meditation,slow yoga flow,beginner yoga,exercice yoga,intermediate yoga,advanced yoga,raja yoga

योग पर कॉपी नहीं चर्चा तब तक अपूर्ण है। जब तक उसमें बी. के. एस. अयंगर के वारे में बात न की जाये। योग को पूरे विश्व में लोकप्रिय बनाने का बहुत बड़ा श्रेय इन्हीं को जाता है। पदम् विभूषण से सम्मानित अयंगर को 2004 में टाइम मैगजीन के 100 सबसे प्रभाव शाली व्यक्तियों की सूची में शामिल किया गया था। अयंगार का जन्म कर्नाटक में बंगलुरु से करीबन 50 किलोमीटर दूर कोलर जिले के बेल्लूर गांव के एक गरीब परिवार में हुआ था। 

गहरी नींद कैसे लें :How To Sleep Well




Post a Comment