Breaking

Search This Blog

Sunday, August 19, 2018

CPCB Guidelines for Water Quality Monitoring: जाने कहाँ -कहाँ है गंगा नहाने योग्य किस जगह हैं गन्दी

CPCB Guidelines for Water Quality Monitoring: अगर आप गंगा में डुबकी लगाने जा रहे हैं तो एक बार pollution control board India (CPCB) की वेबसाइट पर जाकर इसकी पुष्टि लें। की जिस जगह आप नहाने जा रहें हैं क्या वह सम्बंधित जगह नहाने लायक है भी या नहीं। CPCB: guidelines for ambient water quality monitoring के मुताबिक, Gangotry से Haridwar तक ही गंगा का जल नहाने योग्य है। इसके आगे उत्तर प्रदेश , बिहार और पश्चिम बंगाल में एक या दो स्थानों को छोड़कर कहीं भी गंगा का पानी नहाने लायक नहीं बचा है। National Green Tribunal  शक्ति के बाद अब सिगरेट के पैकेट पर दी जाने वाली चेतावनी की तरह CPCB की वेबसाइट के जरिये लोगों को Online  ही आगाह किया  रहा है। की गंगा में किस किस जगह पर पर पानी डुबकी लगाने योग्य है  की नहीं। जल्द ही मैदानों में इसको लेकर चेतावनी बोर्ड लगाए जायेंगे।
CPCB Guidelines for Water Quality Monitoring


CPCB Guidelines for Water Quality Monitoring 


CPCB Guidelines for Water Quality Monitoring: अगर आप गंगा में डुबकी लगाने जा रहे हैं तो एक बार pollution control board India (CPCB) की वेबसाइट पर जाकर इसकी पुष्टि लें। की जिस जगह आप नहाने जा रहें हैं क्या वह सम्बंधित जगह नहाने लायक है भी या नहीं। CPCB: guidelines for ambient water quality monitoring के मुताबिक, Gangotry से Haridwar तक ही गंगा का जल नहाने योग्य है। इसके आगे उत्तर प्रदेश , बिहार और पश्चिम बंगाल में एक या दो स्थानों को छोड़कर कहीं भी गंगा का पानी नहाने लायक नहीं बचा है। National Green Tribunal  शक्ति के बाद अब सिगरेट के पैकेट पर दी जाने वाली चेतावनी की तरह CPCB की वेबसाइट के जरिये लोगों को Online  ही आगाह किया  रहा है। की गंगा में किस किस जगह पर पर पानी डुबकी लगाने योग्य है  की नहीं। जल्द ही मैदानों में इसको लेकर चेतावनी बोर्ड लगाए जायेंगे। 


गंगा में दिन प्रतिदिन प्रदुषण बढ़ता जा रहा है। जिसके कारण गंगा का जल अपवित्र होता जा रहा है। सदियों से बहती चली आ रही नदी गंगा आज प्रदुषण के कारण खत्म होने की कगार पर है। गंगा की  हिन्दू धर्म में बड़ी मान्यता है। हिन्दू धर्म  गंगा को गंगा मां कहा गया है। हर रोज सुबह शाम हिन्दू गंगा की आरती करते हैं। लेकिन गंगा  प्रदूषण बढ़ने के कारण आज गंगा खतरे में है। 


CPCB Guidelines for Water Quality Monitoring: अगर आप गंगा में डुबकी लगाने जा रहे हैं तो एक बार pollution control board India (CPCB) की वेबसाइट पर जाकर इसकी पुष्टि लें। की जिस जगह आप नहाने जा रहें हैं क्या वह सम्बंधित जगह नहाने लायक है भी या नहीं। CPCB: guidelines for ambient water quality monitoring के मुताबिक, Gangotry से Haridwar तक ही गंगा का जल नहाने योग्य है। इसके आगे उत्तर प्रदेश , बिहार और पश्चिम बंगाल में एक या दो स्थानों को छोड़कर कहीं भी गंगा का पानी नहाने लायक नहीं बचा है। National Green Tribunal  शक्ति के बाद अब सिगरेट के पैकेट पर दी जाने वाली चेतावनी की तरह CPCB की वेबसाइट के जरिये लोगों को Online  ही आगाह किया  रहा है। की गंगा में किस किस जगह पर पर पानी डुबकी लगाने योग्य है  की नहीं। जल्द ही मैदानों में इसको लेकर चेतावनी बोर्ड लगाए जायेंगे।
CPCB Guidelines for Water Quality Monitoring

कारण 

जैसा की आप हम सभी लोग जानते है की गंगा के प्रदूषित होने का कारण उसमें शहर व कस्वों के गंदे नालों का वहना , फैक्ट्री अथवा मील का गन्दा पानी सीधे गंगा में आना आदि। 

यहां है नहाने लायक जल

पूरे भारत में कुछ ही गिनी चुनी जगह बची हुई हैं जहां जाकर  गंगा में डुबकी लगाई जा सकती है। 
गंगोत्री, रुद्रप्रयाग, देवप्रयाग, ऋषिकेश, हरिद्वार, रुड़की, मद्य गंगा बिजनौर, ब्रजघाट, गढ़मुक्तेस्वर, आरा-छपरा रोड। 

ऐसे हासिल करें गंगा के प्रदुषण की जानकारी 

Search Engine पर CPCB: Guidelines for Water Quality Monitoring के साथ Suitability Of River Ganga Water की खोज करें या फिर CPCB की वेबसाइट पर जाकर e-governance कॉलम में आपको यह सॉफ्टवेयर मौजूद मिलेगा। 

CPCB Guidelines for Water Quality Monitoring: अगर आप गंगा में डुबकी लगाने जा रहे हैं तो एक बार pollution control board India (CPCB) की वेबसाइट पर जाकर इसकी पुष्टि लें। की जिस जगह आप नहाने जा रहें हैं क्या वह सम्बंधित जगह नहाने लायक है भी या नहीं। CPCB: guidelines for ambient water quality monitoring के मुताबिक, Gangotry से Haridwar तक ही गंगा का जल नहाने योग्य है। इसके आगे उत्तर प्रदेश , बिहार और पश्चिम बंगाल में एक या दो स्थानों को छोड़कर कहीं भी गंगा का पानी नहाने लायक नहीं बचा है। National Green Tribunal  शक्ति के बाद अब सिगरेट के पैकेट पर दी जाने वाली चेतावनी की तरह CPCB की वेबसाइट के जरिये लोगों को Online  ही आगाह किया  रहा है। की गंगा में किस किस जगह पर पर पानी डुबकी लगाने योग्य है  की नहीं। जल्द ही मैदानों में इसको लेकर चेतावनी बोर्ड लगाए जायेंगे।
CPCB Guidelines for Water Quality Monitoring


 जिससे CPCBआप idelines for Water Quality Monitoring  सकते हैं।  इसमें आप गंगा क्षेत्र का Settelite नक्शा देख सकते हैं। गंगा ले  प्रमुख बिंदु पर लाल यानी अनफिट और हरा यानी फिट के निशान को प्रदर्शित किया गया है। 


CPCB, how to cheque waterquality of ganga
CPCB Guidelines for Water Quality Monitoring



Post a Comment